Monday, 30 December 2013

अंदाज़....


वो इतरा के अपनी शख्सियत जताते हैं  .... 
अंदाज़-ए-हुस्न लाज़मी है  … 
हम बन्दिगी से अपनी आशिक़ी जताते हैं  .... 
अंदाज़-ए- इश्क़ लाज़मी है  … 

Wo Itraa Ke Apni Shakhsiyat Jataatey Hain...
Andaaz-E-Husn Laazmi Hai...
Ham Bandigi Se Apni Aashiqi Jataatey Hain...
Andaaz-E-Ishq Laazmi Hai...

10 comments:

  1. itni acchi rachna me humara comment krna laazmi hai :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thnq Aparna!! tumne sabse pehle comment kiye hai mere blog ki pehli post pr.. m honored!

      Delete
  2. सबसे पहले शुभकामनाएं ब्लॉग की
    सेल से टिपणी कर रहा तो टाइपो माफ़ हो

    बेहद भावपूर्ण अभिव्यक्ती अभिलेख भाई

    ReplyDelete
  3. मेरी तो खुद पहल है अनुराग भाई, किसी भी कमी के लिए माफ़ी चाहता हूँ। बाकि आप मार्गदर्शन और प्रोत्साहित करते रहिये।

    ReplyDelete
  4. aur ham pad ke samaj jate hai to tareef karna bhi lazmi hai
    bahut ache bahut ache .

    ReplyDelete
  5. congratulations and a big god bless to u

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thnq so much Pammi Ji! Bas aise hi hausla-afzayi krte rahiye aur apne doston se bhi kahen ki mujhe aashirwad dete rahein!

      Delete
  6. Wo khamosh rah kar sab kah jate he
    Andaz-e- haya lazami he..
    Hum unki khamoshiyo ko Alfaz bnate he
    Andaz-e- wafa lazami he...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Kya bat hai Ritu..tumne to achhi continuation de di..many thnx!

      Delete

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।