Thursday, 2 January 2014

तू कौन है ...?

Kuch din pehle ki likhi hui kavita jo 2013 Independence Day ke liye likhi thi..kahin kho gayi thi..aaj wapas mil jaane pe share kar rha hun..! Ye maine us samay ke time ke according likha tha jab Border per bahut tention hone ke baawjud apne PM ke taraf se koi nhi tough stand nhi lia gaya tha....!




तू कौन है ...?
````````````````
तू अपना ही है,
लेकिन तू भेदी है ..
फिर नेता कौन है ?

तु शहीद है,
लेकिन तू बलि है ..
फिर सिपाही कौन है ?

तू तिरंगा है,
लेकिन तू बाँटा हुआ है ..
फिर इकरंगा कौन है ?

तू इमानदार है,
लेकिन तू अँधा है ..
फिर क़ानून कौन है ?

तू पूज्य है,
लेकिन तू पत्थर है ..
फिर भगवान कौन है ?

तू स्वाधीन है,
लेकिन तू नौकर है ..
फिर आज़ाद कौन है ?

तू देश है,
लेकिन तू विभाजित है ..
फिर संयुक्त कौन है ?


Pic Courtesy : Google

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।