Sunday, 16 February 2014

Published Poetry: प्रदूषित इंसानियत

Here I have one more published poetry stating about on social issues. This was written keeping on mind about global warming and at the same time I have tried to speak on human behavior. With an overall gradual development across the world, somehow we are losing the charm of human nature. We are in so rush that we no longer care for our own people. Nowadays relationships don't last long, people suffers from various kind diseases which are not easily curable. For the sake of surviving in this world, we are actually killing ourselves and heading towards a bleak and unknown world.
Please do read & give your comments...



Pic Courtesy : Clicked from Magazine


प्रदूषित इंसानियत 

प्रदूषित हो रहा पर्यावरण,
इंसानियत को कुदरत से कैसे यह रंजिश है। 
बेहताशा पेड़ों को काट कर,
अब बस्ती नयी ज़िन्दगी है। 
इस्पाती रसायनों की बाढ़ में,
पानी को तरसती ज़िन्दगी है। 
गतिशील उन्नति की राह में,
बीमारियों में लिपटी ज़िन्दगी है। 
रफ़्तार की पकड़ में,
सड़कों पर भागती ज़िन्दगी है। 
मतलबपरस्ती कि झुण्ड में,
उलझी रिश्तों कि ज़िन्दगी है। 
किसे दोष दें इस प्रदिशन के लिए ?
क्या करें इसे दूर करने के लिए ?
क्यूँ इंसान अपना अस्तित्व  मिटा रहा है ?
आज के लिए अपना कल क्यूँ बिगाड़ रहा है ?
आओ धरती पर भी एक नया स्वर्ग बनाएँ,
धूमिल होती इंसानियत को फ़ौरन बचाएँ।

So, I believe I have not done anything towards "Preaching" because am not good in that. But yes, as being human I do care about my surroundings. I am also trying to contribute in such a way so that we could see a better and healthy environment. If we all work towards any common cause, definitely a change would take place... Lets try a bit...

Be Happy n Be Blessed! :)

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।