Sunday, 9 March 2014

एक आइना पारदर्शी सा...।

एक आइना पारदर्शी सा..।

एक आइना जो पारदर्शी सा है,
मेरे ही सामने लगा रहता है,
बुत सा मैं खुद उसे देखता हूँ,
हरकतें उसमें मेरा अक़्स करता है।

सामने जब मैं खुद हूँ इसके,
तो फ़िर आईने में कौन दिखता है,
जो मेरा ही प्रतिबिम्ब बनकर,
न जाने किसकी नक़्ल करता है।

छू भी नही सकता उसे,
कुछ कह भी नही सकता उससे,
फ़िर क्यूँ सिर्फ यह अक़्स,
हरपल मेरे ही रूबरू रहता है।

आइना तो सच बोलता है जब,
फ़िर मुझसे कुछ क्यूँ नही कहता है,
आइना तोड़ कर खत्म तो कर दूँ सब,
पर टुकड़ों में मेरा ही अक़्स रहता है।

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।