Saturday, 28 November 2015

Lyrics: रात सी ज़िन्दगी।

रात सी ज़िन्दगी।
Ek shaam se judaa ho chukaa..
Ab ek bhor se bichhadna hai..
In faaslon mein khokar khud ko...
Mujhe Gumshuda raat sa guzarna hai...

एक शाम से जुदा हो चुका..
अब एक भोर से बिछड़ना है..
इन फासलों में खोकर खुद को...
मुझे गुमशुदा रात सा गुज़रना है..!

Taaron ki tanahayion mein..
Chaand ke fareb mein..
Jugnon ki beparwahi ke saath..
Mujhe tanhaa raat sa guzarna hai..

तारों की तन्हाईयों में..
चाँद के फरेब में..
जुगनुओं की बेपरवाही के साथ..
मुझे तन्हा रात सा गुज़रना है..

Shaakhon ki kaanaafusi hai..
Sard hawaon mein Chaaplusi hai...
Shama jal na jaaye kahin..
Mujhe Thithurte waqt sa guzarna hai..

शाखों की कानाफूसी है..
सर्द हवाओं में चापलूसी है..
शमा जल न जाए कहीं..
मुझे ठिठुरते वक़्त सा गुज़रना है..!!

©Abhilekh

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।