Wednesday, 7 October 2015

Lyrics: एक बूँद रुमानियत की...!!

Bhigi zulf se wo bhiga ehsaas tapka hai..
Gardan ko chumte huye teri peeth pe bikhra hai..
Bhigo ke tere ang aur libaas ko..
Mere hi imaan mein sharaarat ko ghola hai..!

Hataa dun libaas ya chum lun us boond ko..
Ya chum kar tumhe jala dun us boond ko..
Bagawaat ki raah pe wo qaafir,
Badi besharmi se teri kamar ko oar pighla hai..!

Apni harkaton ko aaj tum thahar jaane do..
Is nasheman ko aaj wahin sawanr jaane do..
Karib aakar gunaahon ke bahaane,
Us qatre mein aaj maine rumaaniyat ko ghola hai..!

भीगी ज़ुल्फ़ से वो भीगा एहसास है..
गर्दन को चूमते हुए तेरी पीठ पे बिखरा है..
भिगो के तेरे अँग और लिबास को,
मेरे ही ईमान में शरारत को घोला है..!

हटा दूँ लिबास या चूम लूँ उस बूँद को..
या चूम कर तुम्हे, जला दूँ उस बूँद को..
बगावत की राह पे वो क़ाफ़िर,
बड़ी बेशर्मी से तेरी कमर की ओर पिघला है..!

अपनी हरकतों को आज तुम ठहर जाने दो..
इस नशेमन को आज, वहीँ सवँर जाने दो..
करीब आकर गुनाहों के बहाने,
उस कतरे में आज मैंने रुमानियत को घोला है..!

©Abhilekh
#Abhilekh

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।